Saturday, April 05, 2008

Ek Shaam Mere Naam : List of Ghazals & Nazms featured on this blog

Urdu shayari se mera lagav college ke zamane se raha hai aur usaki ek badi vajah vo fanakar the jinaki ghazalein sun sun ke ham urdu shayari ki barikiyon ko samajh sake.college ke baad ye silasila tab tak chhoota raha jab talak internet ke urdu shayari manchon se roobaru nahin huye the. manchon par ek doosare ki pasand ko padhna aur ashaaaron ke bare mein charcha karana bahut sukhad aur jnyanavardhak anubhav raha. fir jab se yeblogging shuru huyia to isake madhyam se apani pasand ki ghazalon aur nazmon aur shayaron ke bare men likh kar aap tak pahunchata raha hoon.

Is mahine mera ye blog apna teesra saal poora karne ja raha hai to mujhe laga ki is chitthe par pesh ki gayee ghazalon aur najmo ki ferahist ko varnamala ke kram ke anusar soochibaddh kiya jaye taki pathakon ko apani pasand ko dhoondhane men aur mujhe bhi ye yad rakhane mein ki koyee cheej dobara to nahin ja rahi, sahooliyat ho . is post ki kadi kuchh dinon bad aapako saidabar men bhi dikhaee degi. in ghazlon aur najmon ki link par click karane par aap us post tak pahunchege jahan inake bare men likha gaya hai. jis post ke sath audio hai vahan shayar ke nam ke sath sath gayak gayika ka nam bhi likha gaya hai. sath hi is prshth par un sabhi lekhon ki kadiyan bhi hongin jo sher -o- shayari se jude hain. aasha karata hoon ki mera ye prayas aapake liye upayogi hoga.


कलम के सिपाही

  1. मज़ाज लखनवी भाग:१, भाग: २
  2. फैज़ अहमद फ़ैज भाग:१, भाग: २, भाग: ३
  3. परवीन शाकिर भाग:१, भाग: २
  4. सुदर्शन फ़ाकिर
शायराना गुफ़्तगू
  1. आँखों की कहानी, शायरों की जुबानी भाग :१, भाग : २
  2. चाँद और चाँदनी भाग :१, भाग: २, भाग : ३

कुछ ग़ज़लें कुछ नज़्में

  1. अक़्स-ए-खुशबू हूँ बिखरने से ना रोके कोई ..... परवीन शाकिर
  2. अज़ब पागल सी लड़की है... शायर अज्ञात
  3. अज़ब पागल सी लड़की थी... शायर अज्ञात
  4. अजीब तर्ज-ए-मुलाकात अब के बार रही....... परवीन शाकिर
  5. आज के दौर में ऐ दोस्त ये मंज़र क्यूँ है...सुदर्शन फ़ाकिर
  6. आदमी बुलबुला है पानी का...गुलज़ार
  7. आपकी याद आती रही रात भर...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'
  8. अशआर मेरे यूँ तो ज़माने के लिये हैं...जां निसार अख्तर
  9. इतना मालूम है, ख्वाबों का भरम टूट गया...परवीन शाकिर
  10. ऐ गम-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ? ... मज़ाज लखनवी गायक : जगजीत सिंह
  11. ऐसी न शब बरात, न बकरीद की खुशी.....नज़ीर अकबराबादी
  12. क्या बतायें कि जां गई कैसे ? ...गुलज़ार गायक जगजीत सिंह
  13. किसी रंजिश को हवा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी...सुदर्शन फ़ाकिर गायिका : चित्रा सिंह
  14. कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी.... परवीन शाकिर
  15. 'गर मुझे इसका यकीं हो , मेरे हमदम मेरे दोस्त' ...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़' गायिका: टीना सानी
  16. चन्द रोज और मेरी जान ! फकत चन्द ही रोज !...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'
  17. चराग़-ओ-आफ़ताब ग़ुम, बड़ी हसीन रात थी...सुदर्शन फ़ाकिर, गायक : जगजीत सिंह
  18. जरा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था.. जां निसार अख्तर गायक : मुकेश
  19. तेरी आँखों से ही खुलते हें सवेरों के उफक...गुलज़ार
  20. तेरी ख़ुशबू का पता करती है,मुझ पे एहसान हवा करती है.... परवीन शाकिर
  21. दर्द रुसवा ना था ज़माने में.... इब्ने इंशा
  22. दश्ते- तनहाई में ऐ जाने- जहाँ लर्जां हैं...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़' गायिका: इकबाल बानो
  23. दिखाई दिए यूँ कि बेखुद किया.......मीर तकी 'मीर' गायिका: लता मंगेशकर
  24. दिल की हालत को कोई क्या जाने, या तो हम जाने या ख़ुदा जाने... नूर देवासी, गायिका : रूना लैला
  25. पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाजी देखी मैंने...नज़्म गुलज़ार की आवाज़ में
  26. फूलों की तरह लब खोल कभी..गुलज़ार गायक जगजीत सिंह
  27. बस एक लमहे का झगड़ा था....नज़्म गुलज़ार की आवाज़ में
  28. बहार आई तो जैसे इक बार.......फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़' गायिका: टीना सानी
  29. बहुत दिन हो, गए सच्ची, तेरी आवाज़ की बौछार में भीगा नहीं हूँ मैं नज़्म गुलज़ार की आवाज़ में
  30. बादबाँ खुलने से पहले का इशारा देखना...परवीन शाकिर गायिका : ताहिरा सैयद
  31. बारिश हुई तो फूलों के तन चाक हो गये .... परवीन शाकिर
  32. बोल कि लब आजाद हैं तेरे, बोल, जबां अब तक तेरी है...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़' गायिका: टीना सानी
  33. भले दिनों की बात है, भली सी एक शक्ल थी.....अहमद फ़राज
  34. मुकद्दर खुश्क पत्तों का, है शाखों से जुदा रहना...... मखमूर सईदी
  35. मुझसे पहली सी मोहब्बत मेरी महबूब ना माँग फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़' गायिका: नूरजहाँ
  36. मेरे महबूब, मेरे दोस्त नहीं ये भी नहीं..शौकत परदेशी गायक मुकेश
  37. मैं हूँ तेरा खयाल है और चाँद रात है... वाशी शाह
  38. ये आलम शौक़ का देखा न जाये...अहमद फ़राज गायक गुलाम अली
  39. ये गलियों के आवारा बेकार कुत्ते...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'
  40. ये शीशे ये सपने ये रिश्ते ये धागे...सुदर्शन फ़ाकिर
  41. रात भर बुझते हुए रिश्ते को तापा हमने.. गुलज़ार की नज़्म 'अलाव'
  42. रात यूँ दिल में खोई हुई याद आई....फ़ैज अहमद फ़ैज गायिका : नैयरा नूर
  43. वो लोग बहुत खुशकिस्मत थे,जो इश्क को काम समझते थे ...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'
  44. शायद मैं ज़िन्दगी की सहर ले के आ गया...सुदर्शन फ़ाकिर, गायक जगजीत सिंह
  45. शीशों का मसीहा कोई नहीं,क्या आस लगाए बैठे हो .....फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'
  46. सब्ज़ मद्धम रोशनी में सुर्ख़ आँचल की धनक .... परवीन शाकिर
  47. साथ चलते आ रहे हैं पास आ सकते नहीं..बशीर बद्र
  48. सुंदर कोमल सपनों की बारात गुज़र गई जानाँ .... परवीन शाकिर
  49. हम कि ठहरे अजनबी इतनी मदारातों के बाद....फ़ैज अहमद फ़ैज गायिका : नैयरा नूर
  50. हम देखेंगे, लाजिम है कि हम भी देखेंगे...फ़ैज़ अहमद 'फ़ैज़'
  51. हम तो हैं परदेस में, देस में निकला होगा चाँद...राही मासूम रज़ा गायक: जगजीत सिंह
  52. हमने हसरतों के दाग आँसुओं से धो लिए गायक: गुलाम अली
  53. हमसे वो दूर दूर रहते हैं दिल में लेकिन जरूर रहते हैं गायिका: मुन्नी बेगम
  54. हमारी साँसों में आज तक वो हिना की ख़ुशबू महक रही है गायिका नूरजहाँ/महदी हसन